Bastar Janjaati -बस्तर जनजाति छत्तीसगढ़ की गौरवशाली धरोहर Part 1

Satyapal
Satyapal - Website Manager
5 Min Read

“Bastar Janjaati” -बस्तर जनजाति छत्तीसगढ़ की गौरवशाली धरोहर” के बारे में जानकारी देंगे, जो छत्तीसगढ़ के गहने संस्कृति और विविधता के साथ एक सुंदर समृद्धि क्षेत्र है।

भारत की संस्कृति का एक अलग ही पहचान है जिसमें सौंदर्य न केवल उसके प्राकृतिक सौंदर्य में है बल्कि भारत की कई अनेक प्रकार की सांस्कृतिक धरोहरों में भी है जहां पर कई तरह की जनजाति और उनकी सांस्कृतिक धरोहर पाया जाता है भारतीय सभ्यता में एक महत्वपूर्ण हिस्सा का प्रतीक है।

Flying Beast Chhhattisgarh Visit

बस्तर जनजाति छत्तीसगढ़ के गौरवशाली धरोहर के धरोहर हैं जिनके पास न केवल अपनी अनूठी सांस्कृतिक परंपराएँ हैं, बल्कि उनके पास भारतीय सांस्कृतिक धरोहर का एक महत्वपूर्ण हिस्सा होने का गर्व है। यहां की प्राकृतिक खूबसूरती, सांस्कृतिक धरोहर, और आदिवासी जीवनशैली भारतीय सभ्यता को और भी रिच और विविध बनाते हैं। बस्तर जनजातियों के साथ उनके संघर्ष और समृद्धि का कथा भारत के गर्वपूर्ण हिस्से का हिस्सा है और हमें इनके समृद्ध सांस्कृतिक धरोहरों का सम्मान करना चाहिए।

बस्तर जनजाति (Bastar Janjaati) कौन हैं?

बस्तर, छत्तीसगढ़ राज्य के दक्षिण में स्थित एक जिला है जो कि अपनी आदिवासी जनजातियों के लिए प्रसिद्ध है। बस्तर की विविध परंपरा के लिए यह प्रसिद्ध है । यहां की जनजातियां अपनी आदिवासी सांस्कृतिक धरोहर, परंपराएँ, और जीवनशैली के लिए जानी जाती हैं। बस्तर जनजातियां Bastar Janjaati अनेक छोटे और बड़े जनजातियों से मिलकर बनी होती हैं,

जैसे कि गोंंड, मुरिया, धुरुवा, बाड़ा, धनुक, और बघेल और भी अनेक प्रकार की जनजाति यहां निवास करती है।

bastar janjaati ki photo

बस्तर की प्राकृतिक सौंदर्य

भारत में संस्कृति के अलावा यहां के सौंदर्य का भी जिक्र किया जाता है जिनमें से एक बस्तर का सौंदर्य बहुत ही मनमोहक होता है| बस्तर का सौंदर्य न केवल उसकी प्राकृतिक खूबसूरती में है, बल्कि उसके आकार, जीवनशैली, और सांस्कृतिक धरोहरों में भी छिपा होता है। यहां की प्राकृतिक खेलतान हिलमांग और उनकी आनकेली खेलने की प्राकृतिक क्षमता भारतीय जनजातियों के लिए गर्व का स्रोत है। बस्तर जनजाति के लोग बस्तर के जंगलों में अपने-अपने लिए काम के चीजों का इस्तेमाल करते हैं इन जनजातियों की आपूर्ति और संसाधनों का तरीका भी उनकी प्राकृतिक जीवनशैली के साथ मेल खाता है, जिससे वे अपने सबसे मूल जीवन यहां के पेड़ पौधे यहां के जंतु से जुड़े रहते हैं।

बस्तर की आदिवासी सांस्कृतिक धरोहर

किसी भी देश राज्य की पहचान उसके सांस्कृतिक धरोहर से होती है राज्यों के या देश दुनिया की उनकी अनोखी परंपराओं और संस्कृति से भी पहचान बनती है
बस्तर की आदिवासी सांस्कृतिक धरोहर उनकी अनूठी परंपराओं और संस्कृति की एक प्रतीक है। इन जनजातियों की सांस्कृतिक धरोहर में गाना, नृत्य, और कई प्रकार के शिल्पकला शामिल हैं। उनके धार्मिक आदर्श और परंपराएँ भी विशेष रूप से महत्वपूर्ण हैं और उनके समुदाय के सदस्य इन्हें गहरी भक्ति के साथ पालते हैं।

बस्तर के पर्यटन स्थल

बस्तर क्षेत्र अपने प्राकृतिक सौंदर्य और सांस्कृतिक धरोहर के लिए प्रसिद्ध है, और यहां के पर्यटकों के लिए कई महत्वपूर्ण स्थल हैं। बस्तर के वातावरण की बात किया जाए तो यहां का वातावरण बहुत ही शांत है स्वच्छ वातावरण होने के कारण यहां पर पर्यटकों का आना-जाना लगा रहता है बस्तर की जलवायु और प्राकृतिक सौंदर्य के क्षेत्र में ट्रेकिंग और प्राकृतिक जीवन का अनुभव करने के लिए कई जगह हैं। कांडा, तिराथगढ़, और दंतेवाड़ा जैसे स्थल पर्यटकों के बीच लोकप्रिय हैं।

इस तरह से पूरी जानकारी बस्तर से संबंधित है अगर आप यह जानकारी पूरा पढ़ते हैं तो आप कमेंट में हमें जरूर बताएं जिससे छत्तीसगढ़ के बस्तर का एक अलग पहचान बनेगा |इस तरह, बस्तर जनजाति हमारे देश के सांस्कृतिक धरोहर का महत्वपूर्ण हिस्सा है जो हमें अपनी सांस्कृतिक धरोहर की मूल भूमिका और महत्व को समझने की दिशा में आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित करता है।

Share This Article
By Satyapal Website Manager
Follow:
I am an Engineer and a passionate Blogger, who loves to share topics on Chhattisgarh Bollywood Chollywood news, and love share a quick update of chhattisgarhi Films, Chhattisgarh Actors-Actress News, Chhattisgarh Related Information